Foot-printing क्या है ?(What is Foot-printing?)

हेलो दोस्तों, आज यहाँ से हमारी हैकिंग क्लासेज शुरू हो रही है । अभी तक हमने पढ़ चुके है :-

 

  1. हैकिंग क्या होती है और हैकर्स कौन होते है ?
  2. हैकिंग कि परिक्रियाए।
  3. हैकिंग के लिए अपनी लैब कैसे बनाए।
  4. Kali Linux कैसे इनस्टॉल करे।
  5. Kali Linux को Virtual Box पर कैसे इनस्टॉल करे।
आज हम हैकिंग में जो पहली परिक्रिया यानि की Foot -printing करेंगे । दोस्तों इसका नाम इसके बारे में बहुत कुछ बता देता है ,Footprint मतलब पैरों के निशान।ये बहुत ही जरुरी स्टेप होता है हैकिंग में।ये वो स्टेप होता है जिसमे हमे टारगेट के बारे में जितना हो सके जानकारी जमा करनी होती है। इस स्टेप के बाद हमे अपने टारगेट के बारे में कुछ information मिल जाती है । जैसे की जो System हमारा टारगेट है उसका IP(Internet Protocol) एड्रेस क्या है । ये वो एड्रेस होता है इसके मदद से हमे पता चलता है कि हमारे टारगेट कौन है । For Example :-
www.google.com = 74.125.68.104
ये google का IP एड्रेस है । इसी तरह हर System का अपना एक IP एड्रेस जरूर होता है । जिससे उसे पहचाना जाता है ।

READ हैकरों का ब्राउज़र Tor Browser क्या है ?
READ IT –WhatsApp hack kaise kare

तो Footprinting कैसे होती है । इसको करने के बहुत सारे Options होते है लेकिन हम सिर्फ कुछ जरुरी ही Options को यहाँ पे पढ़ेंगे ।सबसे पहले मैं आपको फिर से बता दू कि Footprinting वो प्रोसेस है जिससे हम अपने टारगेट के बारे में जितना जान सके उतना ही फायदेमंद है ।तो आज हम अपनी इस Hacking की Class में Footprinting को कैसे करते है ये पढ़ेंगे ।

    1. By Search on Search Engine :- ये सबसे easy part है Footprinting का । इसमें हम अपने Target को किसी भी Search Engines पर सर्च करते है ताकि हमे उसके बारे में कोई काम कि डिटेल मिल जाए । Search Engine information का काफी अच्छ Source होता है जैसे कि Google, Bing, Yahoo, etc. आप कोई भी Search Engine इस्तेमाल कर सकते है ।
    2. nslookup Command :- इस command का इस्तेमाल आप कैसे भी कर सकते जैसे कि आप Linux या Windows use कर सकते है । इस Command को use करने के लिए आपको सबसे पहले Command Prompt Open करना है उसके बाद Type करना है “nslookup <website_name>” बिना qoutes(“”) के और Enter बटन दबाना है । जैसे कि निचे स्क्रीनशॉट में दिखाया गया है । For Example :-
      अगर आपको एक वेबसाइट www.example.com के बारे में कुछ information चाहिए तो आप टाइप करेंगे :
      nslookup www.example.com ये आपको उसका IP Address दिखा देगा ।

 

 

  • Ping Command :- ये कमांड आपके टारगेट से Connectivity चेक करती है । मतलब ये कमांड चेक करती है कि जिस System को आप हैक करना चाहते है वो अभी चल रहा है या नहीं । चल रहा का यह मतलब ये ही कि वो Online है या Offline । अगर आपका टारगेट Offline है तो आपके लिए हैक करना लगभग नामुमकिन है । इस कमांड को इस्तेमाल करना भी काफी आसान है ।

PING <target_address>
PING www.example.com

 

इस कमांड से हमने ये पता लगाया कि मेरा ये ब्लॉग Online है । PING कमांड कुछ पैकेट्स सेंड करती है । अगर कोई भी टारगेट Online होता है तो वो इसका reply देता है । जैसा कि हमारे example में मेरे Blog से Reply आया ।

  1. Whois Lookup :- Whois Lookup Foot-printing में काफी Help करता है । अगर आपको किसी भी Domain (www.example.com) कि details चाहिए तो whois lookup best है । यहाँ से आप domain के owner की Details, Mobile Number, E-mail, Server, Etc की जानकारी ले सकते है । जैसे की निचे www.facebook.com की जानकारी दी गयी है ।

इसके लिए www.whois.com/whois Open करके अपने टारगेट Domain का नाम लिखना है और Search पर क्लिक करना है।

इन सब Techniques का आप इस्तेमाल करके अपने Target के बारे में कुछ Information पता लगा सकते है। Foot -Printing करने के लिए आपको Kali Linux में भी बहुत सारे tools मिलेंगे।  उम्मीद है आपको मेरा ये पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको मेरा ये पोस्ट पसंद आया है तो Please इसे शेयर भी करिये।
इसके बाद हमे अपने Target के बारे में और भी जानकारी की जरुरत पड़ेगी क्योकि इतनी सी जानकारी के साथ हम ज्यादा कुछ नहीं कर सकते। आगे की जानकारी के लिए हम अगला Phase यानी कि Scanning पढ़ेंगे।

 

News Reporter

5 thoughts on “Foot-printing क्या है ?| What is Foot-printing?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *